बुधवार, 20 जून 2007

Parents/ Parrots- Teacher Meet:

मैं अपने उताराधिकारी यानी सुपुत्र के स्कूल मे परेंट्स टीचर -मीट मे आमंत्रित थाअक्सर इसमे भाग लेने की जिम्मा मेरे जीवन साथी ही बखूबी निभाती रही हैंपर एक दिन उनकी तबियत खराब हो जाने के कारन ना चाहते हुए भी मुझे ही जाना पड़ासाड़ी तैयारी मैंने पूरी कर ली थीमतलब कि संकोच, झिझक को झटक दिया थास्कूल का मुख्य दरवाजा आते ही पॉकेट से कंघी निकाल चार पांच कारों के शीशे मे मुँह से अपने से को सवारादुसरे जेब से रुमाल निकाल पसीना पोंछाएक बार फिर चलते चलते स्कूटर के शीशा झांक कर अपने आप फिटनेस सर्टिफिकेट फ़ॉर टाक लेडी टीचर देते हुये शाही मे सभी कियानही हम ही nahi



एक हम ही नही और सभी लगभग इसी तरह सज-सवार रहे थे



तब मेरा उताराधिकारी शायद वर्ग मे थाइस हिसाब से मैं साल यंग था आज कि तुलना मेपरेंट्स टीचर संवाद शुरू थासजी-धजी खुबसुरत सी मैडम से नज़र मिलते ही होश लगभग खो गया था पल भर के लिएउस पर फरात्तेदार इंग्लिश के साथ वाणी मे जबर्दस्त मिठास ,मुझे अपनी कमजोरी का बार बार अहसास करा रहा थातब निपट रहे अविभावक जिनकी इंग्लिश मेरे जैसे थी , उनकी आवाज़ मानो पिचले varl कप मे सचिनकुछ ने या या ,राइट , ओके मैम , सिओर आई विल इतएवं थैंक्स से काम चलायाकहने का मतलब पैरेंट्स कम लोग पैर्रोत ज्यादा रहे थे






सात विकेट गिरते देर नही लगीमेरी बारी आयीअबतक मैं मैडम सौन्दर्य अवलोकन के साथ उनके गुगली ओर बाउंसर फेकने के तरीका से भली - भांति परिचित हो गया था



उन्होने नज़र फेका और तुरंत समेटते हुये पूछा "योर वार्ड ? रिप्लाई मे मैंने अपने "अनमोल रतन " का नाम बताया मैडम ने मार्क्स शीट सामने सरकाते हुये बोला "मैथ मे थोडा कम मार्क्स है और आजकल केयर नही करता है आपको बहुत केयर रखने कि जरूरत हैं "।

मतलब कि कम मार्क्स के लिए हम और हमारा बेटा ही रिस्पोंसिबुल है स्कूल टीचर नहीऐसा बाउंसर फेका कि शायद मैं भी पर आउट हो जाऊं लेकिन मैंने उन पर सिक्सर लगा दिया :- मैडम मैं तब से आपका फट -फट अंग्रेजी सुन कर पक चूका हूँअंग्रेजी सुना कर

पैरेंट्स को डरा कर तोता बना दियामैं वैसा पैरेंट्स हूँ नही जो आपके सामने आपका तोता बन येस मे येस मिलाता रहूँ । Yes I will do that की जगह मुझे तो केवल You have to do that. बोलने आता हैमेरा तो बस सीधा सा सवाल है क्या २२००/- मासिक फी अदा करने के बाद हम उसे घर पर ही मैथ मे " एट होम इन " बनाने को मजबूर रहें फिर इस ड्रामा मे स्कूल का रोल कहाँ फीट होता है ? और वह टॉप करे तो आपके स्कूल का विद्यार्थी पहले मेरा बेटा बाद मेहै ना ? हर साल मार्च अप्रैल मे ५०००/-एनुअल चार्जेज लेकर मुझे पतझड़ कर खुद तो स्प्रिंग सीजन सेलिब्रैत्त करती हैअरे आपको भी साल मे केवल एक बार ही दिखाना होता हैफिर क्यों नही मेरे बगिया मे बसंत आता ? क्यों नही कोयल को कूकने दिया जाता ? प्राप्तांक की कूक ही अभिभावक के मन मे सदाबहार बसंत लाता रहता हैमालूम नही क्या ? पैसा भी मैं ही दूं , टीच भी मैं करूं

ये गणित मेरी समझ मे नही आताआप फी लेना बंद कर दो मैं मार्क्स देना शुरू कर देता हूँआपकी मिट्ठी बोली कि गोली और सुन्दर सलोनी चेहरा देख करके अपनी म्हणत कि कमाई तय शुदा डेट पर बैंक तक पहुचाता रहूँपुरे साल कि फी लेकर . महिना का भैकेशन मनाती हो ये उचित है क्या ? चोर कामचोर , जेब कतरे ना कहूँ तो क्या कहू ? we want to see more score in all subject from my child through you & your school. now you have to apply your mind that how can be obtained the same from my lovely child by you . thats all.


ऐसा नही था कि खाली मैं ही dailogue delivery कर रह थाgaram-garam
iv>ऐसा नही था कि केवल मैं ही डायलाग मार रहा थागरमा-गरम संवाद के प्रथम चरण मे वो हेल्पलेस , होपलेस सी दिखी , पुनः रिकोवर होती गईसो घर मे हे भगवान ! बोलने वाली हेअर स्पोक " गौड , एक्स्क्युज मी , डोंट क्राई , कौल गार्ड , लिसन मी , दीस इज नॉट इन माय कन्सर्न प्लीज आस्क तू एडमिनिस्ट्रेशनऔर कई तरह की इंग्लिश गाली भी दी होगी मुझे ना तो फुर्सत थी ना चाह थी सुन ने कीकुछ अभिभावक टीचर का साइड लेने लगेमेरे कानो मे गार्ड को बुलाओ ! प्रिंसिपल मैम को बुलाओ ! पुलिस को बुलाओ !की आवाज़ बिल्कुल इन्किलाब ज़िदाबाद ! जिंदाबाद ! जिंदाबाद !! की तरह गुजना शुरू किया .बैटरी मेरी डाउन थी , पर मैंने शो नही कियाकमीज कि बांह को ऊपर समेटते हुये ,अपनी उर्जा का आभास दिलाते हुये बोला :- येस आई एम् रेडी तो फेस एनी पर्सन
आज ये संपूर्ण ड्रामा दूरदर्शन पर दिखेगा , कल अख़बार मे छपेगायेहि सब कहते हुये मोबाइल पूट-पूट करते आगे बढ़ाप्रिंसिपल साहिबा रास्ते मे ही मिल गईमेरे पहले तीर कि मैं प्रेस से हूँ का शिकार हो गईपूरी आत्मीयता से मुझे पहले पानी पिलाया गयाफिर आराम से अपनी बात रखने को कहा गयापर मेरा स्टॉक तो समाप्त हो चूका था और काफी कुछ सुना देने से ग्लानी भरा मन होने के बावजूद हल्का थाफिर भी एडमिनिस्ट्रेशन से रिलेटेड जो कुछ भी था उससे अवगत करायाकुछ से सहमत तो कुछ से असहमत थी प्रिंसिपल साहिबा खैर मुझे पुनः प्रसारण तो करना नही था बस घंटी बजाना था बजा दिया था कुछ सही के साथ कुछ ज्यादा गलत बोल जाने के लिए सॉरी बोलते हुये चैप्टर क्लोज करना उचित समझापर्सनल कमेंट्स के लिए सॉरी बोलना जरुरी था शेष कमेंट्स तो युनिवर्सल ट्रुथ था तो उसके लिए क्या सॉरी तोरी बोलना ?
आज पतझड़ के साथ बसंत भी आता हैकुछ -कुछ नया जरुर दिखता हैकहीँ सुन कर लाभ लिया जाता कहीँ सुना कर

1 टिप्पणी:

Inscrutable ने कहा…

अती उत्तम !! पढ़ कर मज्जा आ गया.वाह
कुलभूषण